GST Notes PDF in Hindi, Tally Prime GST Pdf Download 2023

नमस्कार दोस्तों इस पोस्ट मे आज मे आप को GST Notes PDF तथा Tally Entry with GST PDF देने वाला हु। जिसे पढ़ कर आप आसानी से अपने Tally Course with GST को Complete कर सकते हैं। क्योंकि बहुत से लोग Tally सीखने से पहले GST के बारे में जानकारी प्राप्त नहीं करते हैं। और Tally Course को Join कर लेते हैं। इसलिए वे एक Professional Accountant की जगह एक Tally Data Entry Operator बन जाते हैं।

इसलिए आज मे आप को अपने Personal Experience के आधार पर Tally GST Notes पढ़ने की सलाह दूँगा। ताकी आप को ज्ञात हो सके कि GSTN Identification Number क्या होता है।, GST क्या है, GST State Code क्या है, HSN Code क्या है। आदि जानकारी आप को प्राप्त हो सके। इसलिए आप Post को शुरू से End तक जरूर पढ़े। तथा पोस्ट को अपने दोस्तों मे शेयर जरूर करे। ताकी उन्हें भी GST और Tally Entry with GST के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके।

GST Identification Number kya hai | GST Notes PDF

GST Identification Number (GSTIN) एक यूनिक 15-अंकों का पहचान संख्या है जो व्यापारिक कार्यों के लिए प्रयोग होता है और वस्तुओं और सेवाओं पर लागू होने वाले Goods and Services Tax (GST) के लिए पहचान प्रदान करता है।

GSTIN का प्रारूप 15 अंकों का होता है और इसमें निम्नलिखित विवरण होते हैं:

पहले 2 अंक – राज्य कोड (State Code)
अगले 10 अंक – पैन नंबर (PAN Number)
अंतिम 3 अंक – अनुक्रम संख्या

GST State Code List PDF 2023

GST के अंतर्गत सभी भारतीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए एक राज्य कोड (State Code) निर्धारित किया गया है। जिसकी List इस प्रकार है।

राज्यों के नाम (State Name)राज्य कोड (State Code)
जम्मू और कश्मीर01
हिमाचल प्रदेश02
पंजाब03
चंडीगड़04
उत्तराखंड05
हरियाणा06
दिल्ली 07
राजस्थान08
उत्तर प्रदेश09
बिहार10
सिक्किम11
अरुणाचल प्रदेश12
नागालैंड13
मणिपुर14
मिजोरम15
त्रिपुरा16
मेघालय17
असम18
पश्चिम बंगाल19
झारखंड20
ओडिशा21
छत्तीसगढ़22
मध्य प्रदेश23
गुजरात24
दमन और दीव25
दादरा और नगर हवेली26
महाराष्ट्र27
कर्नाटक29
गोवा30
लक्षद्वीप31
केरल32
तमिलनाडु33
पुडुचेरी34
अंडमान और निकोबार द्वीप समूह35
तेलंगाना36
आंध्र प्रदेश37
लद्दाख38

जीएसटी एचएसएन कोड लिस्ट पीडीएफ़ डाउन्लोड करे। | HSN Code PDF List 

DOWNLOAD

HSN Code kya hota hai 2023

HSN (Harmonized System of Nomenclature) कोड एक अंतर्राष्ट्रीय मानक Code है। जिसे हिंदी में सामंजस्य पूर्ण सिस्टम नामकरण’ कहा जाता है। जो वस्तुओं को विभिन्न श्रेणियों में वर्गीकृत करने के लिए प्रयुक्त होता है। HSN कोड का उपयोग आमतौर पर वस्तुओं की बिक्री पर लागू होने वाले Tax के लिए किया जाता है।

इस HSN कोड को चार अंकों, छह अंकों और आठ अंकों में विभाजित किया गया है। जो उपयोगकर्ता की आवश्यकता और Turnover के आधार पर चुना जा सकता है। इन कोडों का उपयोग वस्तुओं के प्रकार, विशेषताओं, और क्षेत्रों की स्पष्टता प्रदान करने में किया जाता है।

Read More :-

Tally Prime 3.0.1 GST Activation in Hindi 

दोस्तो अब तक आप ने Tally Prime 2.1 मे GST Enable करना सीखा था। परंतु जब से tallysolutions.com ने अपना New Version Tally Prime Release 3.0.1 लांच किया है। तब से बहुत से Tally User को Tally Prime 3.0.1 मे GST Activate करने मे परेशानी आ रही है। इसलिए इस पोस्ट मे आज मे आप की इस प्रॉबलम को Solve करने वाला हु। 

Tally Prime Release 3.0 मे GST Enable करना बहुत ही आसान है। बस आप को नीचे दी गयी कुछ Steps को Follow करना है। तथा चित्र अनुसार Company की GST Details Fill up करना है। 

Tally Prime >

Gateway of Tally >

Press F11 (Features) >

set Enable Goods and Services Tax (GST) >

Yes

GST Activation in Tally Prime 3.0

How to Create IGST, SGST and CGST Ledger in Tally Prime 3.0

दोस्तों यदि आप Tally मे GST Auto Calculate करना चाहते हैं। तो सबसे पहले आप को Tally मे सही तरीके से GST Ledger Create करना होगे। तभी आप Tally Prime Sale Entry With GST तथा Tally Prime Purchase Entry With GST कर सकते हैं। और ईन सभी GST Ledger को Create करने की Process Step by step नीचे दी गई है।

Create CGST Ledger in Tally Prime

Gateway of Tally >

Create >

Ledger >

Enter

tally gst notes in hindi

1NameLedger का नाम लिखेंगे CGST Ledger
2UnderDuties & Taxes Group का सिलेक्सन करेंगे।
3Type of duty/taxGST ऑप्शन को Select करेंगे।
4Tax type Central Tax ऑप्शन को Select करेंगे।
5Percetage of calculationCGST कितने प्रतिशत (%) Tax लग रहा है। वो हम यहा लिखेगे।
6Rounding method Normal Rounding को Select करेगे।
7Rounding limitय़हा पर हम 1 लिखेगे।

इस प्रकार हम बहुत ही आसानी से टैलि प्राइम 3.0 मे सीजीएसटी लेजर क्रिएट कर सकते है। 

Create SGST Ledger in Tally Prime

Gateway of Tally >

Create >

Ledger >

Enter

Tally Prime मे SGST Ledger कैसे बनाए।

1NameLedger का नाम लिखेंगे SGST Ledger
2UnderDuties & Taxes Group का सिलेक्सन करेंगे।
3Type of duty/taxGST ऑप्शन को Select करेंगे।
4Tax type State Tax ऑप्शन को Select करेंगे।
5Percetage of calculationSGST कितने प्रतिशत (%) Tax लग रहा है। वो हम यहा लिखेगे।
6Rounding method Normal Rounding को Select करेगे।
7Rounding limitय़हा पर हम 1 लिखेगे।

इस प्रकार हम बहुत ही आसानी से टैलि प्राइम 3.0 मे एसजीएसटी लेजर क्रिएट कर सकते है। 

Create IGST Ledger in Tally Prime

Gateway of Tally >

Create >

Ledger >

Enter

Tally Prime मे IGST Ledger कैसे बनाए।

1NameLedger का नाम लिखेंगे IGST Ledger
2UnderDuties & Taxes Group का सिलेक्सन करेंगे।
3Type of duty/taxGST ऑप्शन को Select करेंगे।
4Tax type Integrated Tax ऑप्शन को Select करेंगे।
5Percetage of calculationIGST कितने प्रतिशत (%) Tax लग रहा है। वो हम यहा लिखेगे।
6Rounding method Normal Rounding को Select करेगे।
7Rounding limitय़हा पर हम 1 लिखेगे।

इस प्रकार हम बहुत ही आसानी से टैलि प्राइम 3.0 मे आईजीएसटी लेजर क्रिएट कर सकते है। 

Read More :-

Types of GST Returns PDF Download in Hindi 2023

दोस्तो यदि आप Accounting का कार्य सीख रहे है। तो आप को GST के विभिन्न Returns के बारे मे जरूर जानकारी प्राप्त करना चाहिए। क्योकि इन Return के आधार पर ही हमे सरकार को अपने व्यवसाय के विभिन्न सोदों जैसे- Sales, Purchase आदि की जानकारी देना होती है। व्यवसाय के आकार और टर्नओवर के आधार पर जीएसटी रिटर्न को अनेक भागो मे विभाजित किया गया है। जिसकी List निम्न प्रकार है। 

GST Returns के प्रकार 

1GSTR-1इसमें व्यापारिक गतिविधियों का विवरण जैसे – कि बेचे गए सामान और सेवाएं के बारे में जानकारी दी जाती है। 
2GSTR-2 इसमें व्यापारिक गतिविधियों के अनुसार सप्लायर्स (विक्रेताओं) द्वारा किए गए आपूर्तियों की जानकारी होती है। इस रिटर्न को फिलहाल बंद कर दिया गया है।  
3GSTR-2A GSTR-2A एक ऑटो-पॉप्युलेटेड रिटर्न है जो GST पोर्टल पर आपकी आपूर्ति के सम्बंधित टैक्स क्रेडिट की जानकारी उपलब्ध करवाती है। 
4GSTR-3Bयह मासिक रूप में जमा किया जाता है और इसमें विक्रय, प्राप्तियाँ, और कर चुकाने की जानकारी होती है।
5GSTR-4यह कुछ विशिष्ट विपणनात्मक योजनाओं के लिए होता है, जैसे कि Composition Scheme के तहत आने वाले व्यापारी के लिए।
6GSTR-5यह विदेशी व्यक्तियों और विदेशी कंपनियों के लिए होता है जो भारत में व्यापारिक गतिविधियाँ कर रहे होते हैं।
7GSTR-6यह आपूर्ति चेन मैनेजमेंट के लिए होता है, जिसमें उपभोक्ताओं से संबंधित जानकारी दर्ज की जाती है।
8GSTR-7यह टैक्स डिडक्टर आयग के लिए होता है, जिसमें टैक्स डिडक्टर्स द्वारा कटे गए करों की जानकारी दी जाती है।
9GSTR-8यह Return विनिर्माण या वितरण के लिए इलेक्ट्रॉनिक व्यापार प्लेटफ़ॉर्म्स (ई-कॉमर्स प्लेटफ़ॉर्म्स) के लिए होता है।
10GSTR-9यह वार्षिक रिटर्न होता है, जिसमें सालाना व्यापारिक गतिविधियों और Tax की सम्पूर्ण जानकारी होती है।
11GSTR-10यह Return GST Registration को रद्द करने के बाद दिया जाता है।

Note :- जुलाई 2017 के बाद से, GSTR-2 को बंद कर दिया गया है और इसके स्थान पर व्यवसायिकों को अब GSTR-1 और GSTR-3B जैसे अन्य रिटर्न्स भरने की आवश्यकता है।

अकाउंटिंग के गोल्डन रुल्स 

1.

व्यक्तिगत खाता (Personal Account)

2.

वास्तविक खाता (Real Account)

3.

अवास्तविक खाता (Nominal Account) 

व्यक्तिगत खाता (Personal Account

 
व्यक्तिगत खाते में वे सभी खाते आते हैं, जो किसी व्यक्ति, बैंक या संस्था से संबंधित होते हैं। उन्हें हम व्यक्तिगत खाते (Personal Account ) कहते हैं। जैसे :- राहुल का खाता, बैंक का खाता, कंपनी का खाता
 
Personal Account के नियम
 
पाने वाला नामे डेबिट (Receiver Dr.)
 
देने वाला जमा क्रेडिट (Giver Cr.) 
 

वास्तविक खाता (Real Account)

वास्तविक खाते Real Account में वे सभी खाते आते हैं जो वास्तव में है। तथा जिन्हें छुआ जा सकता है। उन्हें हम वास्तविक खाता (Real Account) कहते हैं। साधारण भाषा मे कहे तो cash और वस्तुओं के खाते वास्तविक खाते (Real Account) है। जैसे :- रोकड़ खाता, फर्नीचर खाता, भवन खाता आदि। 

Real Account के नियम

जो आये उसे नामे डेबिट (comes in Dr.) 

जो जाए उसे जमा क्रेडिट (goes out Cr.) 

अवास्तविक खाता (Nominal Account)

अवास्तविक खाते के अंतर्गत व्यवसाय में होने समस्त हानिया व खर्च तथा लाभ व आय को शामिल किया जाता है। जैसे :- ऑफिस का किराया, न्यूज़ पेपर बेचने से प्रपट आय, वेतन, ऑफिस खर्च, विज्ञापन खर्च आदि। 

Nominal Account के नियम

समस्त हनिया व खर्च नामे  डेबिट (All expenses and losses Dr.)

समस्त लाभ व आय जमा क्रेडिट (All incomes and gains Cr.)

 

Accounting Golden Rules PDF Download 

Download

Conclusion

मस्कार दोस्तो उम्मीद करता हु। की आप को मेरा लेख बहुत पसंद आया होगा। जिसमें मेने आप को बहुत ही आसान भाषा मे बताया कि GST Notes PDF in Hindi, Tally Prime GST Pdf Download कैसे करे। दोस्तों यदि आप को इस लेख में किसी बात को समझने मे परेशानी होती है। तो आप मुझे Comment Box मे पूछ सकते हैं। तथा इस लेख को अपने दोस्तो मे Share जरूर करे। ताकी अन्य लोगों को भी Accounting से संबधित सभी प्रकार की जानकारी समय -समय पर मिलती रहे।

धन्यवाद……….

इन्हे भी पढे :-

1. Tally Prime मे Budget कैसे बनायें। Budget Management in Tally Prime
2.100 Accounting Questions and Answers for Exams in Hindi
3.Cheque Printing in Tally Prime in Hindi 2023
4.Tally Online Test in Hindi
5.Accounting Online Test in Hindi

Leave a comment

error: Content is protected !!