Tally Erp 9 Notes Download in Hindi 2023 | Tally Prime Notes

दोस्तों यदि आप घर बैठे-बैठे Tally सीखना चाहते हैं। और Tally Erp 9 Notes in Hindi मे Download करना चाहते हैं। तो आप बिल्कुल सही पोस्ट पर है। क्योकि आज मे आप को Tally Basic Notes Free मे देने वाला हु। जिसे आप पढ़ कर आसानी से बिना किसी कोचिंग सेंटर जाए Tally सीख सकते है। तथा किसी भी फील्ड मे Tally Job के लिए Apply कर सकते है। बस आप को इन Tally Erp 9 Notes के आधार पर Tally सीखने की शुरुआत करना है।

आप को मेरी Website के ऊपर एक Tally Prime टैब दिखाई देगा जहा से आप और भी tally theory notes को पढ़ सकते है। तो चलिये दोस्तो Tally Prime Notes के बारे मे जानते है।

Tally Erp 9 Notes Download in Hindi

Tally क्या है | 2023

Tally एक Popular Accounting Software है। जो Businesses और Professionals द्वारा Financial Transactions, Accounting और Inventory Management के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इस Accounting Software का उपयोग Small और Medium Sized Businesses Financial Transactions को Records करने के लिए करते है। ताकि समय – समय पर व्यापार की आर्थिक स्थिति को देखा जा सके। तथा व्यापार के हित मे आवश्यक निर्णय लिए जा सके।

Tally एक User Friendly Interface और Flexible Features से लेस होता है। जिसे आप अपने Business Requirements के अनुसार Customize कर सकते है। आज Market मे Tally Software के कई Versions Available है। जिसमे Tally Erp 9, Tally Prime 3.0, Tally Prime Edit logo 3.0, Tally Server आदि शामिल है। Tally के प्रत्येक Versions मे आप को कुछ Additional Features और Enhancements होते है। जो Tally User को Better Functionality और Experience प्रदान करते है।

Read More :-

Tally मे हम क्या कार्य कर सकते है।

जब भी हम Tally Job या Tally Learning का सोचते है। तो हमारे दिमाग मे एक प्रश्न जरूर आता है। की हम Tally मे क्या कार्य कर सकते है। या हमे Tally क्यो सीखना चाहिए। तो दोस्तो आज मे आप को बताना चाहुगा की हम Tally मे निम्न कार्य कर सकते है।

1. Sales Invoice Generate कर सकते है।

2. Purchase Entry कर सकते है।

3. Payment Entry कर सकते है।

4. Receipt Entry कर सकते है।

5. Journal Entry कर सकते है।

6. Bank Transactions Record कर सकते है।

7. Inventory Management कर सकते है।

8. Taxation Report तैयार कर सकते है। जैसे :- GSTR 1, GSTR 2, GSTR 3B आदि।

9. Financial Statements तैयार कर सकते है। जैसे :- Trial Balance, Capital Account, Profit and Loss Account, Balance Sheet आदि।

10. Bank Reconciliation Statement Report तैयार कर सकते है।

11. Payroll Management कर सकते है।

12. Financial Data को Organize कर सकते है।

13. TDS Report तैयार कर सकते है।

14. TCS Report तैयार कर सकते है।

15. Mulit Price List Create कर सकते है।

16.Business Performance Check कर सकते है। आदि कार्य हम Tally मे कर सकते है।

टैलि शब्दावली क्या है। Tally Terminology 2023

क्रमांक English Name Hindi Name 
1 Account खाता
2 Create नया खाता बनाना।
3 Alter खाते मे सुधार करना।
4 Unit किसी वस्तु को मापने की इकाई।
5 Deposit जमा
6 Withdrawal निकासी
7 Amount रकम
8 Balance Amount शेष राशि
9 Message संदेश
10 Payment भुगतान
11 Receipt प्रपट करना।
12 Transaction लेन-देन
13 Cheque चेक
14 Status स्थिति
15 Taxation Report कर संबंधी कागज
16 Discount छूट
17 Stock बिना बिका माल
18 Supply आपूर्ति
19 Company प्रतिष्ठान
20 Ledger खाता

Tally Course Syllabus in Hindi

1. Introduction to Tally

    • Overview of Tally software
    • Installation and setup
    • Navigating the Tally interface

2. Company Creation and Configuration

    • Creating a company in Tally
    • Defining company information
    • Configuring accounting features

3. Chart of Accounts and Ledgers

    • Understanding chart of accounts
    • Creating ledgers for various accounts
    • Managing groups and sub-groups

4. Voucher Entry

    • Types of vouchers in Tally
    • Entering purchase and sales vouchers
    • Recording payment and receipt vouchers

5. Inventory Management

    • Setting up stock groups and categories
    • Creating stock items and units of measure
    • Recording stock transactions

6. Taxation and GST

    • Understanding goods and services tax (GST)
    • Configuring GST in Tally
    • Filing GST returns and generating reports

7. Financial Statements and Reports

    • Generating balance sheets
    • Profit and loss statements
    • Cash flow and fund flow statements

8. Bank Reconciliation

    • Managing bank accounts in Tally
    • Reconciling bank statements with Tally data

9. Payroll Management

    • Setting up employee profiles
    • Processing payroll and generating payslips
    • Handling statutory deductions

10. Data Backup and Security

    • Creating data backups
    • Implementing data security measures
    • Restoring data from backups

11. Advanced Tally Features

    • Using Tally shortcuts and advanced navigation
    • Tally customization options
    • Tally Add-ons and extensions

Read More :-

Tally Basic Notes Part – 1

1 Tally Prime मे New Company Create करने के लिए। Gateway of Tally – Alt+F3 – Create Company
2 Tally Prime मे New Ledger Create करने के लिए। Gateway of Tally – Create – Ledger
3 Tally Prime मे Group Create करने के लिए। Gateway of Tally – Create – Group
4 Tally Prime मे Unit Create करने के लिए। Gateway of Tally – Create – Unit
5 Tally Prime मे Stock Item Create करने के लिए। Gateway of Tally – Create – Stock Item
6 Tally Prime मे Stock Category Create करने के लिए। Gateway of Tally – Create – Stock Category
7 Tally Prime मे Godown Create करने के लिए। Gateway of Tally – Create – Godown
8 Tally Prime मे Price Level Create करने के लिए। Gateway of Tally – Create – Price Level
9 Tally Prime मे TDS Nature of Payment Create करने के लिए। Gateway of Tally – Create – TDS Nature of Payment
10 Tally Prime मे Company Alter करने के लिए। Gateway of Tally – Alt+K – Alter
11 Tally Prime मे Ledger Alter करने के लिए। Gateway of Tally – Alter – Ledger
12 Tally Prime मे Group Alter करने के लिए। Gateway of Tally – Alter – Group
13 Tally Prime मे Unit Alter करने के लिए। Gateway of Tally – Alter – Unit
14 Tally Prime मे Stock Item Alter करने के लिए। Gateway of Tally – Alter – Stock Item
15 Tally Prime मे Stock Category Alter करने के लिए। Gateway of Tally – Alter – Stock Category
16 Tally Prime मे Godown Alter करने के लिए। Gateway of Tally -Alter – Godown
17 Tally Prime मे Price Level Alter करने के लिए। Gateway of Tally -Alter – Price Level
18 Tally Prime मे TDS Nature of Payment Alter करने के लिए। Gateway of Tally – Alter – TDS Nature of Payment
19 Tally मे GST Details Alter करने के लिए।Gateway of Tally – Alter – GST Details
20 Tally मे TDS  Details Alter करने के लिए।Gateway of Tally – Alter – TDS  Details

Tally Basic Notes Part – 2

Tally मे Voucher क्या है।

Tally मे Voucher options का प्रयोग किसी Business Transaction (व्यावसायिक सौदे) को Record करने के लिए किया जाता है।

Tally मे Voucher ऑप्शन पर जाने के लिए Gateway of Tally Tally से यानी Tally की Main Screen से Voucher ऑप्शन पर Enter प्रैस करना है। तथा Transactions के अनुसार Voucher को Select करना है। जैसे यदि हम Purchase Entry करना चाहते हैं। तो Keyboard से F9 Key Press करेगे।

टैली मे निम्नलिखित Voucher होते हैं।

1. PURCHASE VOUCHER – F9 PURCHASE VOUCHER का प्रयोग क्रय से संबधित सभी लेन देन की ENTRY करने के लिये किया जाता हे| फिर चाहे लेन देन नगद हो या उधार

EXAMPLE :-

-मशीनरी खरीदी

-मोहन से उधार माल खरीदा

-बिल्डिंग खरीदी

2. PAYMENT VOUCHER – F5 PAYMENT VOUCHER का प्रयोग भुगतान से संबधित सभी प्रकार के लेन देन का रिकॉर्ड रखने के लिये किया जाता हे चाहे वह भुगतान नगद हो या बैंक के माध्यम से किए गए हो

EXAMPLE:-

-नगद वेतन दिया

-किराया दिया

-श्याम को भुगतान किया

3. SALE  VOUCHER  – F8 :- SALE VOUCHER का प्रयोग विक्रय से संबधित सभी लेन देन की ENTRY करने के लिये किया जाता हे| फिर चाहे लेन देन नगद हो या उधार

EXAMPLE :-

-श्याम को फर्नीचर बेचा

-राम को सामान बेचा

-राम को नगद मशीन बेची

4. RECEPIT  VOUCHER – F6 :- RECEPIT VOUCHER का प्रयोग प्राप्ति से संबन्धित एंट्री करने के लिये किया जाता हे

-नमन से 1000 रु प्राप्त हुये

-सैलरी प्राप्त हुई

-श्याम से कमीशन प्राप्त हुआ

5. CONTRA VOUCHER – F4 :- CONTRA VOUCHER का प्रयोग CASH व BANK के मध्य हुए लेन देनो तथा फ़ंड ट्रांसफर करने के लिये किया जाता हे इसलिए इसमे केवल CASH व BANK से संबधित LEDGER ही प्रदर्शित होते हे

EXAMPLE :-

-बैंक से 1000 रु निकाले

-बैंक मे 2000 रुजमा किये

-एक बैंक से दूसरी बैंक मे फ़ंड ट्रांसफर किया

6. JOURNAL VOUCHER – F7 :- JOURNAL VOUCHER का प्रयोग ADJUSTMENT ENTRY करने के लिये किया जाता हे

EXAMPLE :-

-DONATION

-DISCOUNT

-GOODS FREE SAMPLE

7. DEBIT NOTE – {CTRL+F9}:-DEBIT NOTE VOUCHER का प्रयोग क्रय वापसी (PURCHSE RETURN)से संबधित एंट्री करने के लिये किया जाता हे इस वाउचर को ACTIVATE करने के लिये F11 KEY दबाकर USE DEBIT NOTE /CREDIT NOTE OPTION को YES करना पड़ता हे !

EXAMPLE :-

-खरीदा हुआ GOODS वापस किया

8. CREDIT NOTE – {CTRL+F8} :- CREDIT NOTE VOUCHER का प्रयोग विक्रय वापसी (SALE RETURN) से संबधित एंट्री करने के लिये किया जाता हे इस वाउचर को ACTIVATE करने के लिये F11 KEY दबाकर USE DEBIT NOTE /CREDIT NOTE OPTION को YES करना पड़ता हे !

EXAMPLE :-

-बेचा हुआ GOODS वापस आया।

Cnclusion

नमस्कार दोस्तो उम्मीद करता हु। की आप को मेरा लेख बहुत पसंद आया होगा। जिसमें मेने आप को बहुत ही आसान भाषा मे बताया कि  Tally Erp 9 Notes Download in Hindi 2023 | Tally Prime Notes in Hindi क्या है। दोस्तों यदि आप को इस लेख में किसी बात को समझने मे परेशानी होती है। तो आप मुझे Comment Box मे पूछ सकते हैं। 

धन्यवाद………

इन्हे भी पढे : –

  1. Tally Prime क्या है। Tally Prime को Dowmload और Install कैसे करे।
  2. Tally Prime में Company कैसे बनाये।
  3. Tally Prime में Ledger कैसे बनाये।
  4. Tally Prime में Group कैसे बनाये।
  5. Tally Prime में Voucher Type कैसे बनाये।
  6. Tally Prime मे Stock Group कैसे बनाये।
  7. Tally Prime मे Unit कैसे बनाये।
  8. Tally Prime मे Stock Items कैसे बनाये।
  9. Tally Prime मे Godown कैसे बनाये।Tally Prime मे E invoice कैसे बनाये।
  10. Tally Prime मे Eway Bill कैसे बनाये।

Leave a comment

error: Content is protected !!